हमारे देश को आजाद हुए 70 साल हो चुके है लेकिन हमारे देश की बेटियाँ आज भी आजाद नहीं है। माननीय प्रधानमंत्री जी ने बेटियो की रक्षा व शिक्षा के लिए एक अभियान चलाया “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” वर्षो से देखा जा रहा है कि हमारे देश मे बेटियो को पेदा होने से पहले ही मार दिया जाता है भूर्ण हत्या कर दी जाती है माननीय प्रधानमंत्री जी ने देखा हमारे इतने वर्षो से प्रयास करने के बाद भी लोगो मे जागरुकता का अभाव है हमारे देश मे सबसे बड़ी समस्या है बढ़ती जनसंख्या व बढ़ती बेरोज-गारी व शिक्षा का अभाव। इन सभी समस्याओ का सामना समाज के हर वर्ग को करना पड़ता है। लेकिन कभी किसी ने इस बात पर गोर नहीं किया कि आखिर इन समस्याओ की कड़ी किस से जुड़ी है। जब इस वजह को ढूंढा गया तो वजह सामने निकल कर आयी “शिक्षा” फिर जब इन समस्याओ का हल ढूंढा गया तो उस की कड़ी बेटियो की शिक्षा से जुड़ी हुयी है माना गया अगर बेटिया पढ़ी लिखी होंगी तो वो दो कुल को अपनी शिक्षा की किरणों से रोशन करेगी। जन्म के बाद बेटिया अपने पिता के घर को रोशन करेगी व शादी के बाद बेटिया अपने पति के कुल को व आने वाली पीढ़ियो को अपनी शिक्षा रूपी रोशनी से प्रकाशित करेगी।

जब बेटिया पढ़ेंगी तो वो आने वाली पीड़ी को पढ़ा लिखा बनाएगी ऊच नीच जात-पात व बेटा – बेटी मे भेद भाव खत्म करेगी।जब समाज मे सब पढ़ेगे तो जनसंख्या कम होगी बेरोजगारी कम होगी । भारत सरकार ने इसलिए “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” अभियान चलाया। लेकिन सरकार के प्रयास से ये अभियान सफल हो पायेगा। इसको सफल बनाने के लिए समाज के हर नागरिक को प्रयास करना होगा। सरकार के इस शिक्षा रूपी महायज्ञ मे एक आहिति भगवती इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नालजी अँड साइन्स  ने भी दी तथा सरकार के इस अभियान को सफल बनाने के लिए एक विशेष कदम उठाया। सबसे पहले भगवती इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नालजी अँड साइन्स ने ये सोचा की ये समस्या सबसे ज्यादा किस क्षेत्र‎ मे पायी जाती है भगवती इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नालजी अँड साइन्स ने पाया ये समस्या सबसे ज्यादा ग्रामीण क्षेत्र‎ मे पायी जाती है तो BITS ने गाव के हर स्कूल मे जाकर छात्राओ को शिक्षा के लिए प्रोत्सहित किया ओर उच्च शिक्षा प्राप्त करने हेतु बालिकाओ के लिये बालिका छात्रवृति प्रतियोगिता का भी आयोजन किया जिसके तहत पाठ्यक्रम मे छात्रवृति प्रदान की जायेगी इतना ही नहीं BITS की टीम ने गाव-गाव मे जा कर चोपाल कार्यक्रम का आयोजन किया जिस मे घरेलू महिलाओ को शिक्षा का महत्व बताया जिससे वे अपनी बेटियो को शिक्षित करे तथा चोपल कार्यक्रम मे भी छात्राओ को बालिका प्रोत्साहन छात्रवृति प्रतियोगिता मे शामिल होने का मोका दिया।

इस प्रतियोगिता के अंतर्गत BITS अब तक ……………. छात्राओ को इस का हिस्सा बना चुका है तथा ……………छात्राओ को छात्रवृति प्रदान की जा चुकी है।

आगे भी BITS बेटियो को शिक्षित रखने के लिए ये अभियान जारी रखेगा….